Poems For Kids In Hindi । हिंदी कबिताएं

0
poems-in-hindi-for-kids
poems in hindi for kids

Poems For Kids In Hindi

Poems For Kids In Hindi :-मित्रों, हिंदी कबिताओं का ये भाग-२ है। इसमें भी आप लोगों केलिए बहुत अच्छी अच्छी कबिताएं लेके आया हूँ। उम्मीद करता हूँ ये आप सबको पसंद आएगा।

1.माँ तू कितनी अच्छी है
माँ तू कितनी अच्छी है,
मेरा सब कुछ करती है।
भूख मुझे जब लगती है,
खाना मुझे खिलाती है।
जब में गंदा होता हूँ,
रोज मुझे नहलाती है।
जब में रोने लगता हूँ,
चुप तू मुझे कराती है।
माँ मेरे मित्रों में सबसे,
पहले तू ही आती है।

2.हाथी दादा की सीख
हाथी दादा ने वन में खोली, मिठाई की दुकान ।
दावत खाने सजधज कर, पहुँचे सारे मेहमान ।
केक, पेस्ट्री खाकर सबने, जम कर मौज मनाई।
पूरी-छोलों से की दादा ने, उन की खूब विदाई।
प्लेटें फेंकें कहाँ गर, यह उनकी समझ न आई।।
खाकर कूड़ा फेंको ‘बिन’’ में, यह बात दादा ने समझाई।

3.लाला जीं ने केला खाया
लाला जी ने केला खाया,
केला खाकर मुँह बिचकाया,
उसका छिलका वही गिराया ।
तोंद फुलाकर छड़ी उठाई,
छड़ी उठाकर कदम बदाया ।
पेर के नीचे छिलका आया,
लाला जो तब गिरे धडाम,
मँह से निकला हाय राम ।

4.नानी के घर
नानी के घर जाउंगी मैं,
चुप-चुप-चुप।
वहां पर लड्डू, पेड़े खाऊँगी मैं,
छुप-छुप-छुप।
और अगर आवाज हो गई,
नानीजी के कान पड़ गई,
और वो बोलीं, कौन है वहां?
मैं बोलूंगी-चूहा, मैं बोलूंगी-चूहा।

5.चुहिया रानी
चुहिया रानी, चुहिया रानी,
लगती हो तुम बड़ी सयानी।
जैसे हो इस घर की रानी,
तभी तो करती हो मनमानी।
कुतर-कुतर सब कुछ खा जाती,
जब भी बिल्ली मौसी आती,
दुम दबा बिल में घुस जाती।

6.चार नौकर
मेरे पास है नौकर चार,
हरदम रहते हैं तैयार ।
दो हैं मेरे हाथ,
देते मेरा हरदम साथ।
दो हैं मेरे पैर,
मुझे कराते हैं सैर।
ना पीते हैं, ना खाते हैं,
जहाँ कहूँ ले जाते हैं।

Short poems for kids

7.बिस्कुट का पेड़
मेरी प्यारी अच्छी नानी,
सुनाओ ऐसी एक कहानी।
जिसमें हो बिस्कुट का पेड़,
हो चाकलेट, टाफी का ढेर ।
पापा जब दफ्तर से आएँ,
खूब खिलौने, संग में लाए।
मेरी प्यारी अच्छी नानी,
हमें सुनाओ एक कहानी।

8.बील्ली मौसी
बिल्ली मौसी, बिल्ली मौसी,
कहो कहाँ से आई हो?
कितने चूहै मारे तुमने,
कितने खा कर आई हो?
क्या बताऊँ, लोमड़ भाई,
आज नहीं कुछ पेट भरा।
एक ही चूहा पाया मैंने,
वह भी बिल्कूल सड़ा हुआ।

9.गुब्बारे वाला
गुब्बारे लो गुब्बारे,
गुब्बारे वाला आया।
लाल हरे नीले पीले,
ऊचा-ऊँचा इन्हें उठाओ
तरह-तरह के शोर मचाओ ।
रंग बिरंगे प्यारे-प्यारे,
गुब्बारे लो गुब्बारे,
गुब्बारे वाला आया।
लाल हरे नीले पीले, खुशियों का पैगाम लाए।
सब बच्चों के दिल को भाए,
गुब्बारे लो गुब्बारे, गुख्बार बा आया।

10.मम्मी बोली हमसे, बेटा क्या बनोगे?
मम्मी बोली हमसे, बेटा क्या बनोगे?
पापा बोले हमसे, बेटा क्या बनोगे?
सिपाही ।
मैं नन्हा सिपाही हूँ।
देश की खातिर लड़ता हूँ।
आगे है बंदूक मेरी,
सीना तान के चलता हूँ।
दाएँ-बाएं, दाएँ-बाए,
ठाँ-ठाँ-ठाँ।

11.इत्ता बड़ा गुस्सा!
इत्ती सी बात का इत्ता बड़ा गुस्सा।
क्या हुआ मम्मी ने जो सुबह ही जगा दिया,
क्या हुआ पापा ने जो कमरे से भगा दिया,
चाचा ने चिज्जी में से माँग लिया हिस्सा,
इत्ती सी बात का इत्ता बड़ा गुस्सा!
क्या हुआ दादीजी ने खा लिया तुम्हारा आम,
क्या हुआ दादाजी ने किया नहीं तुम्हारा काम,
प्यार भरी बातों से खत्म करो ये किस्सा,
इत्ती सी बात का इत्ता बड़ा गुस्सा।

Poems For Kids In Hindi

12.मेढक मामा खेल खेलते
मेढक मामा खेल खेलते,
उछल-उछल कर पानी में ।
कभी किसी को धक्का देते,
होते जब शेतानी में।
तभी मेढकी डांट पिलाती,
कहती “माफी मागो जी ।”
धक्का दिया, किया ऊधम क्यों?
दूर यहाँ से भागो जी।
मेढक मामा रोने लगते,
मिलती उनको माफी तब ।
उन्हें मेढकी चुप करने को,
तुरत खिलाती टाफी तब ।

जरूर पढ़े:-

1.चतुर कबूतर । Panchtantra Ki Kahaniya

2.Hindi Rhymes For Kids । बच्चों के कबिताएं

3.Poem On Son In Hindi । बेटा पर कविताएँ

4.भगवान की दूत । धनी ब्यापारी । Stories For Kids In Hindi

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here