Poem On Son In Hindi । बेटा पर कविताएँ

0
Poem On Son In Hindi
Poem On Son In Hindi

Poem On Son In Hindi

Poem On Son In Hindi :-दोस्तों हर माँ अपने बच्चो को बहत प्यार और स्नेह करती है। एक माँ केलिए उसकी बच्चे ही सब कुछ होते हैं। इसीलिए में आज आपके लिए बेटा पर बहत अछि अछि कवितायेँ लेके आया हूँ। आशा करता हूँ आप लोगों को अच्छा लगेगा।

1.महकता हुआ मेरा आँगन रखना

जिस दिन मेरा आँचल भरना ऐ खुदा,
ये वादा भी करना,
सदा महकता हुआ मेरा आँगन रखना।

वो गिरेगा भी,
फिर उठेगा भी,
कभी ना आएगा चलना,
कभी फिर दौड़ेगा भी।

कभी गुस्सा दिखाएगा,
कभी गले लगा लेगा,
कभी बिन बात रो देगा,
कभी यूँ ही हँसाएगा।

उसके नन्हे हिलते हाथों से,
मेरा आशियाना सजाये रखना,
जिस दिन मेरा आँचल भरना ऐ खुदा,
ये वादा भी करना,
सदा महकता हुआ मेरा आँगन रखना।

ऐ खुदा,
महकता हुआ मेरा आँगन रखना।

कभी रातों को जागेगा,
कभी दिन में भी सो देगा,
जब भी कुछ नया बोलेगा,
तो दिल मेरा भी डोलेगा।

हर एक पल में कई सदियों की खुशियाँ मैं बटोरूँगी,
जिस दिन बोलेगा वो “माँ”, कई जन्म जी लूँगी।

ऐसा मुमकिन नहीं की दुनिया के,
हर गम से बचा लूँ मैं तुमको,
मेरा सामर्थ्य नहीं इतना की इस दुनिया की,
हर मुश्किल में पनाह दूँ तुमको।

ऐ खुदा उसके संग सदा,
अपना साथ बनाये रखना जिस दिन मुझे ये बक्शीश देना,
ये वादा भी करना की,
सदा महकता हुआ,
मेरा आँगन रखना।

ऐ खुदा,
महकता हुआ मेरा आँगन रखना।।

Poem On Son In Hindi

2.पहली बार तुम्हे आज गोद में उठाया है

पहली बार तुम्हे आज,
गोद में उठाया है,
कितने जज़्बातों से,
मन मेरा भर सा आया है।

तेरी छोटी छोटी आँखों में,
नन्हे अरमान झलकते हैं,
तेरे कोमल कोमल लब मानो,
कुछ कहने को तरसते हैं।

पहली बार तुम्हे आज,
गोद में उठाया है,
कितने जज्बातों से,
मन मेरा भर सा आया है।

तेरी प्यारी प्यारी हथेलियों में,
नन्ही नह्ही सी लकीरें हैं,
कुछ बन भी गयीं,
कुछ बननी हैं,
जो शायद तेरी मेरी तकदीरें हैं।

पहली बार तुम्हे आज,
गोद में उठाया है,
कितने जज्बातों से,
मन मेरा भर सा आया है।।

तुम पैर हिलाते हो तो यूँ लगता है मुझे,
तुम मुझसे कुछ कहना चाहते हो,
बढ़ाते हो तो यूँ लगता है मुझे,
दुनिया को पकड़ना चाहते हो।

मन करता है यूँ गोद में लूँ,
कभी कोई आंच ना आ पाए ,
तना प्यार मैं दूं तुमको,
की बस इन्तेहाँ ही हो जाए।

मेरे लब से जब भी निकले,
निकले दुआ बस इतनी ही,
जैसा भी हो वक़्त तुम्हारा,
रहे मेहर उस खुदा की।

सर पर तुम्हारे रहे हमेशा,
साया ऊपर वाले का,
खुदा करे हर साँस में तुम्हारी,
एहसास रहे उस साथी का।

Poem On Son In Hindi

Poem On Son In Hindi

3.नया एहसास है माँ बनने का

जब तुम नींद में रोते हो,
डर जाती हूँ मैं,
नया एहसास है माँ बनने का,
यूँ ही नहीं घबराती हूँ मैं।

लोग कहते हैं,
कुछ वक्त अभी,
तुम्हे पिछला जन्म याद रहे।

उन यादों की यादें हैं जो,
तुम नींद में जब जब रोये मैं समझती हूँ।
मैं समझती हूँ,
मैं कुछ कर ना सकूं,
पर गोद में तुम्हे लेकर लोरी सुनाती हूँ में।

उन यादों से बाहर आओ,
इस दुनिया को अब अपनाओ,
में नयी कहानी बुनने को,
बेताब खड़ी हूँ राहों में।

कुछ अच्छे सपने देने की,
चाहत लेकर..
देखो न मैं..
बेताब खड़ी हूँ राहों में।

तब तक, जब भी तुम रोओगे,
तुम्हे गोद में लेकर लोरी सुनाऊँगी मैं।
नींद में रोओगे, तो डर जाउंगी मैं,
नया एहसास है माँ बनने का समझते हो ना..
थोड़ा सा तो घबराऊँगी मैं।

4.हैरान हुँ में

हैरान हुँ में…
तेरे अक्स में मेरा अक्स,
नज़र आने लगा है,
तेरी बातों में मेरी बातें,
सुनाई देने लगी हैं।

हैरान हुँ में…
अच्छी और बुरी,
सभी आदतें मेरी,
तेरी आदतों में,
झलक दिखल्लाने लगी हैं।

हैरान हुँ में…
तेरा झूठमूठ का रोना,
और आँखों में शरारत,
मुझे अपनी ही याद दिलाते हैं।

तेरी ज़िद, तेरा गुस्सा,
तेरे किस्से,
तेरी चर्चा,
मुझे अपनी ही पहचान कराते हैं।
हैरान हूँ में..

5.बस इतना याद रखना

मुझे प्यार है तुमसे,
बस इतना याद रखना।

तुम उड़ना हवाओं में,
तुम्हे रोकेंगे नहीं,
तुम पकड़ना परिंदों को,
तुम्हे टोकेंगे नहीं।

पर कभी मझदार में फँस जाओ,
तो मुझसे बात करना,
मुझे प्यार है तुमसे,
बस इतना याद रखना।

खुदा करे की तुम्हे,
खुदा का साथ मिले,
पड़ जाओ अकेले,
ना ऐसी कोई शाम मिले,

पर फिर भी वफ़्त सताए,
तो मुझसे बात करना,
मुझे प्यार है तुमसे,
बस इतना याद रखना।

Poem On Son In Hindi

जरूर पढ़े:-

1.Hindi Rhymes For Kids । बच्चों के कबिताएं

2.Poems For Kids In Hindi । हिंदी कबिताएं

3.Sadhguru Quotes । सदगुरु जी के अनमोल विचार

4.Bhagat Singh Quotes । भगतसिंह जी के अनमोल विचार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here