दुष्ट भेड़िया । मित्रों की महत्ता । Hindi Stories With Moral

0
Hindi Stories With Moral
Hindi Stories With Moral

Hindi Stories With Moral

1.दुष्ट भेड़िया

एक बार एक भेडिया भूखा-प्यासा घूम रहा था। उसे कहीं खाने को कुछ नहीं मिल रहा था। वह खाने की तलाश में जब चारागाह से गुजर रहा था तो सहसा उसकी नजर भेड़ों के एक झुंड पर पड़ी। एक चरवाहा उन्हें वहाँ चराने के लिए लेकर आया था। उसने चरवाहे से नजर बचाते हुए एक भेड़ को मार डाला। “Hindi Stories With Moral

भेड़ का मांस खाने के बाद उसने उसकी खाल पहनी और भेडों के झुंड में ही शामिल हो गया ताकि उसे रोज आसानी से खाना मिल सके। चरवाहा अपनी भेड़ों के साथ भेडिए को भी घर ले आया। उसने भेड़ की खाल पहने हुए भेड़िए पर ध्यान नहीं दिया। शाम को चरवाहे के घर कुछ मेहमान आए।

उनके भोजन के लिए उसने भेड़ मारने का निश्चय किया। वह तुरंत भेड़ों के बाड़े में गया। वह मारने के लिए मोटी-ताजी भेड़ देखने लगा। भेड़ की खाल पहने हुए भेड़िया ही उसे सबसे अधिक मोटा-ताजा लगा, उसने उसे मार डाला। मारने के बाद उसे पता लगा कि भेड की खाल में भेडिया छिपा था, जो उसकी भेड़ों को खाने आया था। वह भेड़िए के दुस्साहस पर हैरान रह गया।

शिक्षा : बुरे काम का नतीजा भी बुरा होता है।

 

2.मित्रों की महत्ता

Hindi Stories With Moral

एक आदमी के पास गाय, बैल, बिल्ली और एक कुत्ता था। गाय-बैल गऊशाला। में, बिल्ली घर के अंदर और कुत्ता घर के बाहर रहता था। एक दिन बिल्ली ने कुते को भड़काते हुए कहा, ” मालिक तुम्हे जरा भी प्यार नहीं करते। वे तुम्हे घरके बाहर रखते है।

मुझे देखो, में घरके अंदर रहती हूं और तुम्हे तो घरके अंदर आना भी मना है। “कुत्ता यह सुनकर शान दिखाने केलिए घरके अंदर चला गया। जब मालिक ने कुत्ते को घरके अंदर सोता देखा तो गुस्से में आकर उसने उसे बहुत मारा। कुत्ता चुपचाप बाहर आ गया।

कुछ समय बाद कुत्ते ने देखा कि गाय-बैल सो रहे हैं और मालिक उनके लिए घास डाल रहा है, तो उसे बहुत गुस्सा आया। वह उस घास में जाकर सो गया। गाय-बैल ने उठने पर कुते को धीरे-से जगाना चाहा, पर वह उन पर भड़क उठा और दोबारा सो गया।

मालिक जब गऊशाला में आया तो उसने कुते को घास के ऊपर सोते हुए देखा । वह गुस्से में छड़ी से उसे मारने लगा। गाय-बैल ने मालिक से कुत्ते को छोड़ने की विनती की। मालिक ने उसे छोड़ दिया। कुते को समझ आ गया था कि मुसीबत पड़ने पर सच्चे मित्र ही काम आते हैं।

शिक्षा : हमें दोस्तों की महत्ता समझनी चाहिए।

जरूर पढ़े:-

1.पिता की परेशानी । बच्चों की सरारत । Short Stories in Hindi

2.भेड़िया और बच्चा । हिरण का अंत । Hindi Moral Stories

3.देवी की पूजा । जंगली भेड़िया । Short Story in Hindi

4.कछुए का घर । दुश्मन की मौत । Hindi Story With Moral

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here