भेड़िया और बच्चा । हिरण का अंत । Hindi Moral Stories

0
Hindi Moral Stories
Hindi Moral Stories

Hindi Moral Stories

1.भेड़िया और बच्चा

एक बार जंगली कुत्तों का झुंड जंगल में घूमते-घूमते कहीं दूर निकल गया। उनके झुंड से उनका एक बच्चा बिछुड़ गया। उसे अकेले डर लग रहा था और वह घर का रास्ता भी नहीं जानता था। वह चलता रहा। चलते-चलते उसे एक बाँसुरी मिली और वह उसे उलट-पलट कर देखने लगा। “Hindi Moral Stories

अचानक उसके सामने एक भेडिया आ गया। भेडिए को देखकर बच्चा सहम गया। भेडिया अच्छा मौका देखकर बच्चे पर झपटने ही वाला था कि बच्चा कुछ सोचकर बोला, ” भेड़िए महोदय मैं जानता हूँ कि आप मुझे मारकर खाने जा रहे हैं। अवश्य.खाइए, पर मरने वाले की आखिरी इच्छा तो पूछी जाती है ।

भेडिया बोला, “ठीक है, बताओ, तुम्हारी आखिरी इच्छा क्या है।?” बच्चा बोला, ‘ मैं चाहता हूँ कि आप यह बाँसुरी बजाओ और मैं तब तक नाचता रहूँ, जब तक थकर गिर नहीं जाता। ” भेडिया उसकी बात मानकर बाँसुरी बजाने लगा। उसकी आवाज सुनकर जंगली कुत्तों का झुंड वहाँ लौट आया और उन्हें देखकर भेडिया भाग गया।

शिक्षा:चतुराई से बड़े से बडे दुश्मन को भी हराया जा सकता है।

Also Read:-Moral stories In Hindi

2.हिरण का अंत

Hindi Moral Stories

एक समय की बात है। एक हिरण था, उसकी एक आँख जन्म से ही खराब थी। अत: वह एक आँख से ही देख पाता था। एक दिन वह नदी के किनारे उगी हरी-हरी घास चर रहा था।

वह सचेत था कि कहीं कोई शिकारी उस पर हमला न कर दे। वह अपनी एक आँख से आसपास नजर रखे हुए था। उसे जब अपने आसपास कोई खतरा महसूस नहीं हुआ तो वह बेफिक्र होकर आराम से घास चरने लगा।

फिर वह घास खाने में इतना मशगूल हो गया कि सब कुछ भूल गया। तभी अचानक नदी की ओर से एक नाव आई। उसमें दो व्यक्ति सवार थे। उन्होंने वहीं से हिरन पर तीरों की बौछार शुरू कर दी।

हिरन तीरों से बुरी तरह घायल होकर जमीन पर गिर पड़ा। वह अपनी अंतिम साँसें गिनता हुआ बोला, ” मैं भी घास चरते हुए इतना खो गया था कि अपने आसपास का ध्यान ही नहीं रहा। काश मैं सचेत रहता तो मुझे अपनी जान नहीं गँवानी पड़ती।।

शिक्षा : हमें हर काम सावधानीपूर्वक करना चाहिए।

जरूर पढ़े:-

1.Chanakya Niti in Hindi । चाणक्य नीति

2.पिता की परेशानी । बच्चों की सरारत । Short Stories in Hindi

3.सियार की हिम्मत । Animal Story in Hindi

4.Anmol Vachan In Hindi । अनमोल वचन

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here