Bhagat Singh Quotes । भगतसिंह जी के अनमोल विचार

0
bhagat-singh-quotes
bhagat-singh-quotes

14+ Bhagat Singh Quotes

Bhagat Singh Quotes :-शहीद-ए-आजम भगत सिंह सिर्फ एक नाम नहीं, मैं तो उन्हें एक संस्था बोलूँगा, क्योंकि शहीद भगतसिंह का व्यक्तित्व इतना बड़ा है कि उसका एक-एक आचरण अपने आप में देशभक्ति का उदाहरण है। एक बेटा कैसा होता है, एक छात्र कैसा होता है, एक भाई कैसा होता है, एक मित्र कैसा होता है।

वो देश का नागरिक कैसा होता है और देशभक्ति व राष्ट्रभक्ति मेरे लिए शहीद भगतसिंह है। बचपन से ही अपनी माताजी से देश के सच्चे सपूत के बारे में सुना करता था, उनकी हिम्मत को सुनकर उत्साहित हुआ करता था और उनका त्याग-बलिदान सुनकर आँखों में आँसू आ जाते थे। भारत माँ आज भी भगतसिंह जैसा वीर सपूत ढूँढ़ रही है।

Bhagat Singh Quotes In Hindi

bhagat-singh-quotes

1.कानून की पवित्रता तभी तक बनी रहती है, जब तक कि वो लोगों की इच्छा कि अभिव्यक्ति करे।

2.मैं इस बात पर ज़ोर देता हूँ कि मैं महत्वाकांक्षा, आशा और जीवन के प्रति आकर्षण से भरा हुआ हूँ पर ज़रुरत पडने पर मैं ये सब त्याग सकता हूँ और यही सच्चा बलिदान है।

3.मेरे सीने में जो जख्म हैं। वो सब फूलों के गुच्छे हैं। हमे तो पागल ही रहने दो हम पागल ही अच्छे हैं।

4.राख का हर एक कण मेरी गर्मी से गतिमान है। मैं एक ऐसा पागल हुँ जो जेल में भी आजाद है।

5.यदि बहरों को सुनना है तो आवाज को बहुत जोरदार होना होगा। जब हमने बम गिराया तो हमारा ध्येय किसी को मारना नहीं था। हमने अंग्रेजी हुकूमत पर बम गिराया था अंग्रेजों को भारत छौड़ना चाहिए और उसे आज़ाद करना चाहिए।

6.किसी भी कीमत पर बल का प्रयोग न करना काल्पनिक आदर्श है। और नया आन्दोलन जो देश में शुरू हुआ है और जिसके आरम्भ की हम चेतावनी दे चुके हैं वो गुरु गोविन्द सिंह शिवाजी, कमाल पाशा, राजा खान, वाशिगटन, गैरी वील्ड और लेनिन के आदर्शों से प्रेरित है।

7.ज़िन्दगी अपने दम पर ही जी जाती है। औरों के दम पर तो सिर्फ जनाज़े उठाए जाते हैं।

Quotes of Bhagat Singh

bhagat-singh-quotes
8.बुराई इसलिए नहीं बढती कि बुरे लोग बढ़ गए हैं। बल्कि बुराई इसलिए बढती है क्योंकि बुराई सहने वाले लोग बढ़ गए है।

9.आमतौर पर लोग चीजों को जस का तस स्वीकार कर उनके आदि हो जाते हैं और बदलाव का विचार मात्र ही उन्हें कंपा देता है। हमे इसी निष्क्रियता की भावना को क्रांतिकारी भावना में बदलने की ज़रुरत है।

10.व्यक्तियों को कुचलकर वे विचारों को नहीं मार सकते।

11.निष्ठुर आलोचना और स्वतंत्र विचार, ये क्रांतिकरी सोच के दो अहम् लक्षण है।

12.जो व्यक्ति विकास के लिए खड़ा है। उसे हर एक रुदिबादी चीज़ की आलोचना करनी होगी। उससे अविश्वास करना होगा। तथा उसे चुनौती देनी होगी।

13.किसी को क्रांति शब्द की व्याख्या शाब्दिक अर्थ में नहीं करनी चाहिए। जो लोग इस शब्द का उपयोग और दुरूपयोग करते हैं, उनके फायदे के हिसाब से इसे अलग अलग अर्थ और अभिप्राय दिए जाते है।

14.इंसान तभी कुछ करता है जब वो अपने काम के औचित्य को लेकर सुनिश्वित होता है। जैसाकि हस विधान सभा में बम फेकने को लेकर थे।

जरूर पढ़े:-

1.Swami Vivekananda Quotes । विवेकानंद के अनमोल विचार

2.Chanakya Quotes । चाणक्य जी के अनमोल विचार

3.Buddha Quotes In Hindi । गौतम बुद्ध जी के अनमोल विचार

4.Buddha Quotes In Hindi । गौतम बुद्ध जी के अनमोल विचार

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here